सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आतंकी

कश्मीर जो मेरी कल्पना में है । एक दहसद का राज्य जहाँ अभी भी आजादी नहीं है हिन्दुओं को बोलने की और मुस्लिमों को आतंकी हमलों देश को बर्बाद करने और सब्सिडी पर पूर्ण अधिकार है । कश्मीर ही क्या ? पूरे देश के हालात ऐसे हैं ।
भाई मैं मानवता की बात करता हूँ लेकिन कब तक ? लेकिन मेरे लिए मानवता सर्वोपरि होगा ।
मैं हर रोज उस स्वर्ग को गुंडागर्दी का अड्डा बनता देखता हूँ न्यूज में , अख़बारों में ।
कब तक मेरे देश के नौजवान आतंकवादी बनते रहेंगे ।
और कब तक Burhan Muzaffar Wani जैसे लोग देश को बर्बाद करते रहेंगे ।
मैं ये भी नहीं कहता कि देश को तोड़ने का काम केवल मुस्लमान करते हैं वो कई हिन्दू भी हैं लेकिन उनको सुनने वाला कौन है ...? हिंदुओं के पास अपना विवेक होता है ना कि एक फ़तवे को आँख मूद कर मान लें ।
और मुझे अचम्भा होता है लोग बिना सोचे समझे उसके पीछे पीछे चलते हैं और दूसरों को मारने तक में नहीं चूकते मैंने कभी कुरान पढ़ी नहीं लेकिन मुहम्मद साहब ने ये तो कहीं नहीं लिखा होगा कि दूसरों को मार कर जन्नत मिलेगी .. मैं किसी के धर्म की अवहेलना नहीं कर रहा हूँ ..। और ना ही मेरा ऐसा मन है । लोग कहते हैं कि आतंक का कोई धर्म नहीं होता । लेकिन 90 % आतंकी मुस्लिम ही क्यों  ? मैं कलाम साहब जैसे लोगों की कद्र भी करता हूँ ..। लेकिन जो कश्मीर में हो रहा है वो देख कर मुझे गुस्सा भी आता है ..। मेरा ही तो नौजवान मर रहा है कहीं सैनिक के रूप में कहीं आतंकी के रूप में । लेकिन मेरे देश की ही तो हानि हो रही है और jnu के कुछ सब्सिडी पर पलने वाले आतंकियों को शहीद और शहीदों को बलात्कारी कहते हैं तब भी लोग चुप रहते हैं । राजनेता मिलने जाते हैं और कन्धा थपथपा कर आते हैं । और कहते हैं भाई तू यूँ ही हमारे लिए काम करता रह ...  । और पक्ष - प्रतिपक्ष केवल आपसी कमियाँ निकालने में लगा है .। किसे है देश की चिंता ? साहित्कार खुद चाटुकारिता में उतरे हैं । किसे है देश की चिंता ? आम इंसान टमाटर , प्याज और भाभी जी के लिए सौंदर्य वर्धक वस्तुएँ जुटाने में असमर्थ है ..। नेता मजे में हैं । और मर रहा है सैनिक , कश्मीरी । किसे चिंता है ..? फेसबुक में केवल हम लोग सलाह देते फिरते हैं बस .. लेकिन किसे है देश की चिंता ?
और आरक्षण सब के लिए अलग , कानून सब के लिए अलग , भाषा सब के लिए अलग ...। हमें बांटने का काम तो हमारी सरकारों ने ही कर रखा है ... । और कितने Burhan Muzaffar Wani जैसे लोगो पनप रहे हैं कश्मीर में कोई नहीं जानता ..। सरकारें कब तक चुप रहेंगी ? और कब तक हम मरते रहेंगे और नेताओं , अभिनेताओं , मल्यादि मजे में रहेंगे ? और देश के हालात कहाँ सुधरे हैं ..?
कहीं नहीं ।
हर रोज महिलाओं , बच्चियों के साथ हो रहे दुराचार अख़बारों की शान बन रही है ..  । और प्रेम और हवस के प्रेमी समाज को दर्शाया जाता है पेपर में । एसिड अटैक और न जाने क्या क्या ..?
कितने प्रकार के आतंकी पल रहे हैं इस देश में मैं भी नहीं जनता ।
केवल मारो मारो में मुस्लिम आगे हैं तो दुराचार , बलात्कार जैसी घटनाओं में हिन्दू और अन्य धर्मानुलम्बि भी पीछे नहीं हैं ...। बहन और भाई का रिश्ता तक धूमिल दीखता है ..। कौन पिता कौन पुत्री ? सब रिश्ते हवस तले दबे पड़े हैं । और औरत भी केवल भौतिक रूप से विकशित हुई है आज  । हम हर जगह से आतंकी बन रहे हैं । बस आतंकी ..।

माणिक्य बहुगुना

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्यार

वो लड़की बहुत अच्छी लगती है ..
जो मेरे यादों में बसती है ।
मेरे आँखों की नमी देख ...
जो खुद रो पड़ती है ।
जो मेरे हँसने में ..
खुद हँस पड़ती है ।
जिसे में अंतस में समेटे रहता हूँ ...
उस बात को बोल देती है ।
वह जो मेरी खुसी में ..
खुद की खुसी जोड़ देती है ।
उससे बातें करना अच्छा लगता है ..
और मेरे दिल को ठण्डक देती है ।
हजारों लाखों में ..
बस वही अच्छा लगती है ।
लेकिन क्यों ?
नहीं जनता ।
उसे में महसूस करता हूँ---------
सूरज की लाली में ..
रात काली में ।
पूनम में , अमावस में ..
जल में,थल में ।
पानी की घूँट में ..
दिन रात में ।
भोजन में , भजन में ..
आरती में वन्दना में ।
सोने में उठने में ..
चिड़ियों के चहकने में ।
दिन की कड़क धूप में..
बादलों की छाँव में ।
सब में , शराब में ..
गुलसन में , शबनम में ।
प्रेम में प्रेमी जोड़ों में ..
गुस्से में लड़ाई में ।
पंखे की हवा में .
रोशनदानों में ।
रौशनी में , अँधेरे में ...
सुबह सबेरे में ।
फूलों में पत्तें में ...
सरोवर झीलों में ।
पानी में , भोजन में ..
किताब की हर शब्द में ।
गम में खुसी में ..
अकेलेपन में , साथ में ।
गीतों की धुन में ..
सरगम की तानों म…

प्रेम

मुझे इतने प्रेम से गले मत लगाओ ..
मुझे देश के लिए लड़ना है
मैं कमज़ोर न पड़ जाऊँ ..
तुम ईश्वर से प्रार्थना करना ।
मैं अगर मर जाऊँ लड़ते लड़ते ..
मुझे बस एक बार छू लेना  ..
मेरे बच्चों को मुझे मत दिखाना ..
क्या पता मैं उठ जाऊँ ?
तुम दूसरा विवाह कर लेना ..
अगर मैं ना लौटा तो ..
मेरा पैसा , घर तुम्हारे नाम पे है ..
तुम ख़ुश रहना  ऐसे ही ।
मेरी रुह तुम्हारा दुःख सहन नहीं कर पाएगी ...
तुम मेरे बचे अंगों को जलाना मत ,
दफनाना मत , दान कर देना ।
मैं तुम्हारी ज़रूरतें पूरी नहीं कर पाया ...
ना ही तुम्हें प्यार दे पाया जिसपे तुम्हारा हक़ था ..
मैं तुम्हारा अपराधी बन सकता हूँ .
देश का नहीं ।
तुम मेरी किताबें , तुम्हारे प्रेम पत्र जलाना मत ..
मेरी और तुम्हारे कुछ फोटोज हैं उन्हें फेंकना मत ..
तुम खिडकियाँ खोले रखना मैं तुम्हें देखने आया करूँगा ...
हवा , पानी , रोशनी , अंधेरा बन कर ।
माणिक्य बहुगुना

मैं

मैं देश की तरक्की चाहता हूँ ..
     लेकिन टैक्स चोरी मैं ही करता हूँ ।
मैं स्वच्छ भारत मिशन में साथ हूँ ..
    कूड़ा सड़कों में नदियों में मैं ही फेकता हूँ ।
मैं काला धन भारत में लाना चाहता हूँ ..
     मैं ही तो रिश्वत लेता हूँ ।
मैं सरकारी टीचर बनना चाहता हूँ ..
     लेकिन खुद के बच्चों को पब्लिक स्कूल में पढता हूँ ।
मैं ही तो हूँ जो अपनी माँ बहन को इज्जत देना चाहता हूँ .
  मैं ही बात बात में तेरी माँ तेरी बहन कहता हूँ ।
मैं ही गाय को माँ कह कर अनशन करता हूँ ..
     मैं ही बूचड़खाने में मांस की खरीददारी करता हूँ ।
मैं ही पत्थर , कब्र को पूजता हूँ  .....
    मैं ही अपने माँ पिता को वृद्धा आश्रम छोड़ आता हूँ ।
मैं ही खुद के बच्चों को समझा पाने में असमर्थ होता हूँ ..
   मैं ही हर किसी को सलाह देता फिरता हूँ ।
मैं ही हर नवरात्र लड़की को पूजते हूँ ..
     मैं ही उस नन्हे भ्रूण हो मार देता हूँ ।
मैं ही दहेज़ प्रथा को अभिशाप मानता हूँ ..
     मैं ही तो दहेज़ चाहता हूँ ।
मैं ही तो मिलावट करता हूँ ..
     फिर मैं ही शुद्ध चाहता हूँ ।
मैं ही जमीन काट ,जंगल काट घर बना रहा हूँ ..
     मैं ही पर्यावरण क…